Tonsils Ka Ilaj

Published by: 0

Tonsils Ka Ilaj

टाॅन्सिल का इलाज

गलतुण्डिका शोथ
(Tonsillitis) टाॅन्सिल

tonsillitis, tonsillitis treatment at home, tonsillitis symptoms, tonsils ka ilaj

इस रोग में टॉन्सिल  बढ़ जाते हैं। उसमें सूजन तथा प्रदाह हो जाता है। रोग अधिक बढ़ने पर उस भाग में पस पड़ जाती है। इस रोग में रोगी को कोई भी चीज निगलने, भोजन करने और बोलने में भी कष्ट होता है। यहाँ तक कि थूक निगलने पर भी दर्द होता है। ज्वर, सिरदर्द, गले में दर्द, आवाज़ बैठ जाना, साँस लेने में कष्ट, निगलने में कष्ट आदि लक्षण इस रोग में होते हैं। इसे ‘कंठ मूल ग्रन्थि शोथ’ भी कहते हैं।

आप यह हिंदी लेख chetanonline.com पर पढ़ रहे हैं..

घरेलू चिकित्सा-

Tonsils Ka Ilaj

1. हल्दी का चूर्ण 1-1 चम्मच दिन में 3 बार सुखोष्ण जल के साथ दें।

2. सुखोष्ण जल में 1 चम्मच हल्दी का चूर्ण मिलाकर दिन में 3-4 बार गरारा करने हेतु दें।

3. सुखोष्ण जल में 1 चुटकी नमक मिलाकर दिन में 3-4 बार गरारा करायें।

4. सोंठ, मिर्च और पीपल बराबर-बराबर मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण तैयार कर लें। यह चूर्ण 2-2 ग्राम दिन में 3 बार शहद के साथ चाटनार्थ दें।

5. बबूल की छाल का काढ़ा बनाकर उसमें तनिक नमक मिलाकर प्रतिदिन 3 बार गरारा करायें।

यह भी पढ़ें- मधुमेह

6. हल्दी का चूर्ण 3-3 ग्राम प्रतिदिन 3 बार शहद मिलाकर चाटने से लाभ होता है।

7. सुबह-शाम 1-1 कप गोमूत्र पीना तथा गोमूत्र से प्रतिदिन 3-4 बार गरारा करना इस रोग में अत्यंत लाभदायक है।

8. अमलतास की फली का गूदा 50 ग्राम 500 ग्राम पानी में उबालें तथा उसे छानकर सुहाता-सुहाता सुबह-शाम गरारा करायें।

9. मुलहेठी का चूर्ण 1-1 ग्राम दिन में 4-5 बार चूसकर खाने से लाभ होता है।

10. एक गिलास सुखोष्ण जल में 1 चम्मच पिसी हल्दी चैथाई चम्मच नमक मिलाकर प्रतिदिन 3-4 बार गरारा करायें।

11. मुलेहठी, बच और कुलंजन बराबर-बराबर मात्रा में लेकर खूब महीन चूर्ण कर लें। यह चूर्ण 2-2 ग्राम प्रतिदिन 3 बार शहद मिलाकर चाटनार्थ दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *