Swapndosh Ke Upay

0

Swapndosh Ke Upay

स्वप्नदोष के उपाय

स्वप्नदोष क्या है?

Nightfall, How To Stop Nightfall, Swapandosh, Swapnadosh

स्वप्न में जब व्यक्ति कोई कामुक व अश्लील दृश्य जिसमें वह किसी सुंदर स्त्री अथवा लड़की के साथ संभोग कर रहा होता है और आखिर में चरम पर पहुंच कर उसका नींद में ही वीर्य स्खलित हो जाता है, तो इस पूरी प्रक्रिया को ही स्वप्नदोष कहते हैं। और फिर जब व्यक्ति एकदम से जागता है तो अपने वस्त्र को गंदा पाता है, जिसके लिए वह अपने को दोषी समझता है। और चूँकि यह दोष स्वप्न में होता है, इसलिए यह स्वप्नदोष कहलाता है।

आप यह हिंदी लेख Chetanonline.com पर पढ़ रहे हैं..

अगर स्वप्नदोष की समस्या पुरानी हो तो वीर्यपात के बाद व्यक्ति की नींद भी नहीं खुलती है। महीने में 1-2 बार अविवाहित युवकों में स्वप्नदोष होना, कोई गंभीर बात नहीं है। बल्कि यह तो स्वभाविक और आम प्रक्रिया है। हां, अगर माह में 3 से 4 बार स्वप्नदोष होता है, तो यह समस्या आगे चलकर गंभीर रूप धारण कर सकती है, जिसका उपचार समय रहते करना उचित होता है।

स्वप्नदोष के लक्षण व नुकसान-

Swapndosh Ke Upay

1. रोगी मानसिक रूप से खुद को कमजोर महसूस करने लगता है।

2. वास्तविक संभोग के दौरान जल्दी स्खलित हो जाता है, जोकि शीघ्रपतन की समस्या बन जाती है।

3. कई युवक शिथिलता व दुर्बलता की भी शिकायत करते हैं।

4. किसी भी कार्य में मन नहीं लगता, जिस कारण वह कार्य अधूरे में ही छोड़ देना पड़ता है।

5. स्वभाव से व्यक्ति चिड़चिड़ा भी हो जाता है।

यह भी पढ़ें- धात रोग

6. अपनी इस समस्या को लेकर हर वक्त कुछ न कुछ सोचते रहते हैं और तनाव में रहते हैं। जिस कारण विज्ञापन पढ़कर यौन दुर्बलता नाशक उत्तेजक औषधियों का सेवन करते रहते हैं, जिससे उनका रोग कम होने बजाए, और भी भयानक रूप लेने लगता है।

7. स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है। जरा-जरा सी बात उन्हें भूलने लगती है। कोई वस्तू कहीं भी रखकर भूल जाते हैं आदि।

ऐसे युवकों को किसी योग्य व अनुभवी चिकित्सक से मिलकर अपनी समस्या खुलकर बतानी चाहिए, ताकि वह जड़ से इस समस्या को समाप्त करके आपको पूरी तरह आराम दिला सके।

स्वप्नदोष में कुछ जरूरी निर्देश :

स्वप्नदोष में औषधि चिकित्सा के साथ-साथ भोजन और दिनचर्या पर भी विशेष ध्यान देना होता है। भोजन हल्का, सादा, सुपाच्य व शाकाहारी करना चाहिए। तेल-मसालों, गरम व उत्तेजक पदार्थों का सेवन कम से कम करना चाहिए तथा रात्रि का भोजन सोने से 3-4 घंटे पहले कर लेना चाहिए। सुबह 4 बजे बिस्तर त्याग देना चाहिए तथा माॅर्निंग वाॅक व प्राणायाम करना चाहिए। रात्रि में 10 बजे तक अवश्य सो जाना चाहिए तथा सोने से पहले हाथ-मुँह धो करके कुल्ला करके कम-से-कम 11 बार ‘? नमः शिवाय’ का जाप करना चाहिए। कामुक चिन्ता, मनन, दृश्य दर्शन, कामुक साहित्य पढ़ना व बातचीत आदि से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें- सुहागरात

आयुर्वेदिक चिकित्सा-

Swapndosh Ke Upay

1. मुक्तादि योगम् 2-2 गोली सुबह-शाम फीके दूध से लें, स्वप्नदोष बंद हो जायेगा।

2. स्वप्नदोषादि योगम् 2-2 गोली 3 बार जल से रोगी को दें, आराम मिलेगा।

Swapndosh Ke Upay

3. रसायन चूर्ण 2 ग्राम, अश्वगंधा चूर्ण 1 ग्राम, शतावरी चूर्ण 1 ग्राम, ब्राह्मी चूर्ण 1 ग्राम। इन सबको मिलाकर इनकी 1 मात्रा दिन में 2 बार जल से लें।

4. लवण भास्कर चूर्ण व हिंगवाष्टक चूर्ण 1-1 ग्राम 2 बार भोजन के बाद जल से लें।

5. त्रिफला चूर्ण व ईसबगोल भूसी 1-1 चम्मच रात में सोने से 1 घंटा पहले जल से लें।

सेक्स समस्या से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Summary
Review Date
Reviewed Item
Swapndosh Ke Upay
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *