Sex Timing Badhane Ke Upay

0

Sex Timing Badhane Ke Upay

सेक्स टाइमिंग बढ़ाने के उपाय

संभोग की समय अवधि कितनी होनी चाहिए?

Sex Time Increase, Sex Timing Medicine, Sambhog

संभोग करना और उसका आनंद लेना ये दोनों अलग-अलग चीजे हैं। जल्दबाजी में, हड़बड़ाहट में या फिर किसी भय में किया संभोग, आनंद का परिचायक नहीं होता। इसमेें केवल खानापूर्ति होती है, कि बस किसी तरह कामेच्छा शांत हो जाये। इससे न तो स्वयं को आनंद आता है और ना ही आपके पार्टनर को ही संतुष्टि मिल पाती है।
अब प्रश्न यह भी उठता है कि आखिर सफल और आनंदमय संभोग की टाइमिंग यानी समय अवधि कितनी होनी चाहिए। क्या संभोग के लिए टाइमिंग भी मायने रखती है।

आप यह हिंदी लेख Chetanonline.com पर पढ़ रहे हैं..

तो इसके उत्तर में यही कहा जा सकता है कि कि संभोग में लंबा समय लेने से अधिक आवश्यक है संभोग में आनंद कितना आया। बोरिंग संभोग में यदि समय भी अधिक हो जाये, तो ऐसा लगता है कि हम कोई सजा भोग रहे हैं। अतः प्रयास यही होना चाहिए कि इसमें पुरूष और स्त्री दोनों को असीमसुख की अनुभूति हो, तृप्ति हो। फिर चाहे सेक्स 3 से 4 मिनट का ही क्यों न हो।

संभोग में समय की सीमा आप पर और आपके पार्टनर की सेक्स इच्छा और उसकी तीव्रता पर निर्भर करती है। जैसे कि आप तो 3 से 4 मिनट के संभोग में तृप्त हो गये किन्तु आपका पार्टनर अधूरा रह जाये तो गड़बड़ हो सकती है। या यह भी हो सकता है कि स्त्री तो संतुष्ट हो चुकी हो, मगर पुरूष को समय लग रहा हो, तो ऐसे में सेक्स कष्टकारी साबित हो सकता है।

संभोग में लंबी टाइमिंग के लिए जो जुनून आजकल के युवा पुरूषों को प्रेरित करता है या कर रहा है, वह सारा ‘पोर्न’ का किया धरा है। दरअसल पुरूष लोग ‘पोर्न मूवी’ में देखते हैं कि उसका नायक, अपनी नायिका के साथ लंबे समय से तरह-तरह के ‘आसनों’ का प्रयोग करके सेक्स कर रहा है और नायिका भी पूरे उत्साह के साथ उसका साथ दे रही है और आनंदित हो रही है। बस यहीं से पुरूषों को भी लगने लगता है कि अगर स्त्री को संभोग में परास्त करना है तो संभोग का समय लंबा होना चाहिए।

यह भी पढ़ें- स्वप्नदोष

यदि आप भी ऐसा ही कुछ सोचते हैं, तो चलिए जानते हैं कि आखिर संभोग के लिए कितना समय सही रहता है…

Sex Timing Badhane Ke Upay

1. विशेषज्ञों के अनुसार अगर आप अपने पार्टनर के साथ कम से कम 3 से 4 मिनट का समय संभोग में ले लेते हैं, तो आपकी सेक्स क्षमता नाॅर्मल है। आपको घबराने की जरूरत नहीं है। यदि इससे पूर्व आप स्खलित हो जाते हैं, तो यह गंभीर हो सकता है, जोकि शायद आगे चलकर शीघ्रपतन का कारण हो सकता है।

2. यदि आपकी महिला पार्टनर की सेक्सुअल ड्राइव स्ट्राॅन्ग है, तो आपके लिए 3 से 7 मिनट का समय भी कम पड़ सकता है और आपकी पार्टनर असंतुष्ट रह सकती है।

3. डाॅक्टर्स के अनुसार संभोग की सबसे बढ़िया समय अवधि लगभग 3 से 13 मिनट तक की होती है। एक्सपर्ट की मानें तो 3 से 13 मिनट तक यदि आप अपनी सेक्स टाईमिंग को खींच लेते हैं, तो यह साबित करता है कि आपकी सेक्स पाॅवर अच्छी है और आपका संभोग नाॅर्मल कैटेगिरी में आता है।

4. कई पुरूषों की तो संभोग क्षमता इतनी अधिक होती है कि वह 30 मिनट तक भी संभोग कर लेते हैं और अपनी पार्टनर को संतुष्ट करके थका देते हैं। अब निर्भर यह भी करता है कि ऐसे पुरूषों की महिला पार्टनर भी उतनी सेक्स क्षमता वाली हो। अन्यथा महिला को बेहद कष्ट का अनुभव भी करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें- सफेद पानी आना

हम संभोग की समय सीमा पर चाहे कितनी भी टिप्पणी कर लें, लेकिन सच तो यह है कि समय कोई मायने नहीं रखता है। यह मधुर मिलन की वो घड़ी होती है, जिसमें केवल आनंद ही आनंद और तृप्ति होनी चाहिए। किसी बेकार के भ्रम या चिंता के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। इसके अलावा आपस में सही तालमेल, एक-दूसरे की इच्छा, प्रेम, सम्मान, स्वास्थ्य, आहार, निंद्रा सभी बहुत मायने रखते हैं।
जो एक-दूसरे को जानें, एक-दूसरे की मानें, वो ही सफल संभोग की कीमत जानें।

सेक्स समस्या से संबंधित अन्य जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *