Sambhog Ka Tarika

0

Sambhog Ka Tarika

संभोग का तरीका

अधूरी जानकारी कर सकती है संभोग का आनंद किरकिरा

Sexual Intercourse, Sambhog, Sex Ki Jankari

इस बात से आप भी सहमत होंगे कि हर व्यक्ति के जीवन में उम्र का एक पड़ाव ऐसा आता है कि जब वह संभोग के लायक हो जाता हैं और संभोग करता भी है। फिर चाहे वह स्त्री हो या पुरूष, दोनों ही संभोग के लिए जिज्ञासु रहते हैं। अपने पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध बनाना हर स्त्री-पुरूष एक ख्वाब होता है, जोकि विवाह के पश्चात् ही संभव माना जाता है। केवल संभोग करना ही जरूरी नहीं है, संभोग में आनंद और तृप्ति की भी प्राथमिकता जरूरी होती है, क्योंकि बिना आनंद और तृप्ति का संभोग, वास्तविक संभोग नहीं होता है।

शारीरिक मिलन में पूर्ण आनंद और तृप्ति नहीं मिल पान के पीछे मुख्य कारण होता है कि संभोग की सही और पूर्ण जानकारी का न होना। आपको बता दें कि आधी-अधूरी जानकारी ही वो कारण व समस्या है, जिस वजह से व्यक्ति संभोग में कोई न कोई गलती कर बैठता है और पूर्ण संतुष्टि प्राप्त नहीं कर पाता है।

आप यह हिंदी लेख Chetanonline.com पर पढ़ रहे हैं..

सहवास से पूर्व जरूरी है इन बातों का जानना..

Sambhog Ka Tarika

सेक्स एक ऐसी प्राकृतिक देन कह लें या फिर प्रक्रिया कह लें जिससे स्त्री और पुरूष दोनों ही अछूते नहीं रह सकते। जवानी में कदम रखते ही सेक्स के प्रति जिज्ञासा दोनों में ही बढ़ती रहती है। शायद आपको पता नहीं कि सेक्स भी हमारे जीवन के लिए उतना ही आवश्यक है, जितना की भोजन, पानी और हवा। और अब आप ही सोचिए कि जो चीज(सेक्स, संभोग) हमारे जीवन के लिए इतनी महत्व रखती है, यदि उसका ही हमें सही से ज्ञान न हो तो कितनी गंभीर बात है। सेक्स की आधी-अधूरी जानकारी होने से व्यक्ति मुश्किल में पड़ सकता है, इसलिए जरूरी है कि सेक्स का अनुभव लेने पहले इसकी सम्पूर्ण जानकारी ले ली जाये।

1. सेक्स से संबंधित भ्रम को करें दूर :
अधिकतर व्यक्ति पूरी जानकारी ना होने के कारण या फिर गलतफहमी के कारण सेक्स के दौरान असफल रह जाते हैं। दरअसल उत्तेजना के दौरान पुरूष के लिंग से जरा-जरा सा पानी व द्रव्य निकलता है, जोकि वीर्य नहीं होता। किन्तु अज्ञानता के कारण अधिकत लोग इसे वीर्य समझ लेते हैं और समझने लगते हैं कि उन्हें कोई सेक्स विकार हो गया है।

यह भी पढ़ें- धात रोग

2. संभोग के लिए खानपान का नियम :
जब भी आप पति-पत्नी का आपस में संभोग का मन हो, तो उस रात कोशिश करें कि सेक्स से लगभग एक घंटा पूर्व भोजन कर लें। ऐसा करने से संभोग के दौरान आप अपने आपको हल्का-फुल्का महसूस करेंगे और तब तक आपको पूरी एनर्जी भी मिल जायेगी। सेक्स कर लेने के आधा घंटा बाद स्नान करने से भी स्वास्थ्य के लिए उचित रहता है। जाहिर है कि संभोग के बाद थोड़ी-बहुत थकान होना स्वाभाविक है। अपनी थकान मिटाने के लिए और शरीर में शक्ति का संचार करने के लिए संभोग के बाद दूध, जलेबी, खजूर या कुछ मीठे पदार्थ सेवन कर लें।

यह भी ध्यान रखे :
जिस रात्रि को सेक्स करने का मूड हो तो रात्रि के भोजन में अचार न खायें, खट्टी चीजें, भारी भोजन से दूर रहें। क्योंकि इनका सेवन आपके वीर्य की क्वालिटी को खराब करता है, नष्ट करता है, जिससे वीर्य पतला हो जाता है और यही वीर्य का पतलापन शीघ्रपतन की एक मुख्य वजह भी बन जाता है। इसके अलावा स्त्री व पत्नी को मासिक धर्म हो तो पति को उनके पास नहीं जाना चाहिए। ऐसा करना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

3. मैथुन से पहले और बाद की सावधानी :
संसर्ग करने से पहले पति-पत्नी दोनों को मूत्र त्याग कर लेना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि जननेन्द्रियां भली-भांति प्राकृतिक तरीके से कार्य करती हैं। सहवास से ठीक पूर्व कोशिश करें कि पानी न पीयें और सेक्स करने के बाद कम से कम 15 से 20 मिनट तक पानी ना पिएं। ऐसा करने से जुकाम होने की संभावना बनी रहती है और सेक्स क्षमता भी क्षीण हो सकती है।

यह भी पढ़ें- स्वप्नदोष

Sambhog Ka Tarika

4. संभोग की सही अवधि :
दोपहर में संभोग करना किसी भी स्थिति में सही नहीं होता है। दरअसल दोपहर में भी गर्मी होती है और संभोग भी पूरी बाॅडी में गर्मी पैदा कर देता है। गर्मी में गर्मी का समावेश होने से स्वास्थ्य को हानि पहुंच सकती हैं। इसके अलावा दिन में किये गये संसर्ग से पैदा हुई संतान भी अवगुण रूपी होती है। जैसे वह पित्त से संबंधित परेशानी में रहता है, क्रोधित स्वभाव का होता है, प्रवृत्ति उसकी अति कामुक और निर्लज्ज की तरह होती है।

सेक्स संबंधित किसी भी जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें..http://chetanclinic.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *