Masik Dharm Ke Samay Dard Ke Ayurvedic Upay

कष्टरज, मासिक धर्म पीड़ा से आना, कृच्छार्तव, रजःकृच्छता डाइमेनरिह्या(Dysmenorrhoea)- परिचय- मासिकधर्म प्रारम्भ होने से 5-6 दिन पहले कमर, पेडू और पूरे शरीर में बहुत अधिक पीड़ा होती है। पेड़ू में तो ऐसी तीव्र पीड़ा होती है, जो संवेदनशील स्वभाव की रोगिणी चिल्लाकर रोने के लिए बाध्य हो जाती है। स्राव काला आभायुक्त आता है। स्राव […]

Ling La Dhilapan Dur Karne Ka Ayurvedic Ilaj

लिंग की शिथिलता(Looseness of Penis)- लिंग का ढीलापन, पूरी तरह तनाव न आना, बेजान बने रहना इत्यादि लिंग विकार बचपन की गलतियों, अधिक हस्तमैथुन, अत्यधिक मैथुन, अप्राकृतिक मैथुन व अन्य सेक्सुअल प्राॅब्लम के कारण इस प्रकार की समस्या आने लगती है। लिंग में पूरी तरह जोश व तनाव ने आने के कारण व्यक्ति संभोग करने […]

Sujak Rog Ke Liye Desi Ayurvedic Upchar

सुज़ाक, उष्णवात, भृशोष्णवात, मूत्र में पीप आना, आगंतुकमेह, पूयमेह, व्रणमेह गोनोरिहया(Gonorrhea)- परिचय- यह रोग स्त्री से पुरूष को और पुरूष से स्त्री को संभोग द्वारा हो जाता है। कारण- यह ‘नाइजीरिया गोनोरियाई’ नामक जीवाणुओं द्वारा एक से दूसरे को हो जाता है। जो स्त्री या पुरूष इस रोग से ग्रस्त हो जाता है, उसके साथ […]

Yoni Ki Bimari Ka Desi Ayurvedic Upchar

योनि की बीमारी का देसी आयुर्वेदिक उपचार योनि के रोग(Diseases of Vagina) इस रोग में योनि के अंदर श्लैष्मिककला(Mucous Membrane) लाल हो जाती है। यह रोग प्रायः शारीरिक कमजोरी, रक्त में अधिक गर्मी, अतिसंभोग या संभोग से पूर्णतः वर्जित रहना, मासिकधर्म रूक जाना, सुजाक का संक्रमण, प्रसवकाल में तीव्र पीड़ा, गन्दा रहना, खटाई या गर्म(तेज) […]

Andkosh Ki Khujli Ke Liye Ayurvedic Upay

अण्डकोष की खुजली के लिए आयुर्वेदिक उपाय अण्डकोषों की खुजली, फोतों की खुजली (Scrotal Pruritus) – परिचय- यदि सहलाने या नाखूनों से खुजलाने से क्षणिक आनंद या आराम अनुभव हो तो त्वचा के उस भाग को खुजली से आक्रान्त समझते हैं। यदि अण्डकोषों की त्वचा इस खुजली से आक्रान्त हो तो इसे अण्डकोषों की खुजली […]

Banjhpan Ke Liye Gharelu Ayurvedic Upay

बाँझपन के लिए घरेलू आयुर्वेदिक उपाय बाँझपन, बन्ध्यत्व, बच्चा न होना- Sterility, Infertility परिचय- संतान उत्पन्न करने की क्षमता के अभाव को बाँझपन कहते हैं। संतान की उत्पत्ति के लिए पुरूष के वीर्य का स्वस्थ होना और स्त्री के रज का शुद्ध होना परमावश्यक है। इसलिए बाँझपन चिकित्सा में पति एवं पत्नी दोनों का परीक्षण […]

Andkosh Ki Sujan Ka Desi Gharelu Upchar

अण्डकोष की शिराओं का फूलना वेरिकोसील(Varicocele)- परिचय- अण्डकोषों की शिराओं की अस्वभाविक सूजन को ही अण्डकोषों की शिराओं का फूलना कहलाता है। कारण- रोग ग्रस्त वृषण के ऊपर उभार हो जाता है, जो ऊपर से तंग और नीचे चैड़ा हो जाता है। उसमें बड़ी-बड़ी गुठलियाँ प्रतीत होती हैं। जोर से साँस लेने, खाँसने, बोलने और […]

Ling Chota Aur Patla Hone Ka Ayurvedic Upay

लिंग छोटा और पतला होने का आयुर्वेदिक उपाय शिश्न छोटा या पतला होने की आयुर्वेदिक चिकित्सा- कई पुरूष ऐसे होते हैं जो शिश्न छोटा या पतला होने के कारण हीनभावना से ग्रस्त हो जाते हैं। ऐसे पुरूष, स्त्री के पास जाने से भय और संकोच करने लगते हैं। वास्तव में शिश्न का आकार छोटा होना […]

Ling Aur Napunsakta Ki Samasya Ke Desi Upay

लिंग और नपुंसकता की समस्या के देसी उपाय लिंग वर्धक एवं नामर्दी नाशक विशिष्ट योग- बचपन की गलतियों व बुरी संगति के कारण आई नामर्दी(नपुंसकता) की समस्या में पुरूषों में देखी जा सकती है। इस समस्य के पुरूष, संभोग के लायक नहीं रहता। इच्छा होने पर भी स्त्री को संतुष्ट करने में असफल रहता है। […]

Stano Ka Dhilapan Dur Karne Ke Gharelu Upay

स्तनों का ढीला हो जाना(Relaxation of Mammary Glands)- स्त्रियों और युवतियों के लिए स्तन मुख्य रूप से आकर्षण का केन्द्र माना जाता है। यदि किसी स्त्री के स्तन युवावस्था में ही ढीले हों तो यह अभिशाप-सा प्रतीत होता है। इस स्थिति में दुग्ध उत्पादक ग्रंथियों की सक्रियता भी कम या समाप्त सी हो जाती है। […]